Rajkot Mandi Bhav

Rajkot Mandi Bhav


20/04/2020



ક્રમ શાકભાજી નું નામ નીચો ભાવ ઉચો ભાવ
1 બટાટા 260 320
2 ડુંગળી સુકી 100 225
3 ટમેટા 120 210
4 સુરણ 220 330
5 કોથમરી 90 170
6 સકરીયા 160 240
7 મુળા 130 320
8 રીંગણા 80 120
9 કોબીજ 40 60
10 ફુલાવર 260 380






11 ભીંડો 280 420
12 ગુવાર 200 450
13 ચોળા સીંગ 620 750
14 વાલોળ 450 600
15 ગીલોડા 280 360
16 દૂધી 100 150
17 કારેલા 270 450
18 સરગવો 180 340
19 તુરીયા 260 380
20 પરવર 600 800
21 કાકડી 240 350
22 ગાજર 90 150
23 વટાણા 850 1100
24 બીટ 100 200
25 ગલકા 240 370
26 મેથી 120 230
27 વાલ 500 700
28 ડુંગળી લીલી 100 200
29 આદુ 900 1200
30 મરચા - લીલા 120 250
31 લસણ - લીલુ 400 650
32 મકાઇ - લીલી 60 150
33 ગુંદા 250 400
34 લીંબુ 700 900
35 સાકરટેટી 170 280
36 કેરી - કાચી 300 500


पीएम किसान योजना की कुछ मुख्य बातें

किसानों के लिए चलाई गई यह योजना शत-प्रतिशत सरकार दो द्वारा वित्त पोषित है
यह योजना किसानों के लिए 01 दिसंबर 2018 से कार्य कर रही है
इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक किसानों को सरकार द्वारा तीन किस्तों में रुपए 6000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है यानी हर 4 माह बाद किसानों के खाते में सरकार द्वारा ₹2000 डाले जाते हैं
योजना के अंतर्गत लाभार्थियों का चयन सरकार तथा केंद्र सरकार द्वारा किया जाता है
किसानों के खाते में डायरेक्ट बैंक ट्रांसफर के माध्यम से यह धनराशि दी जाती है
योजना के अंतर्गत पंजीकरण करने से पहले प्रत्येक किसान को सरकार द्वारा नामित स्थानीय पटवारी / राजस्व अधिकारी / नोडल अधिकारी (पीएम-किसान) से संपर्क करना होगा।
कॉमन सर्विस सेंटर (CSCs) को फीस के भुगतान पर इस योजना के लिए किसानों का पंजीकरण करने के लिए अधिकृत किया गया है।
पोर्टल में किसान कॉर्नर के माध्यम से किसान अपना स्व-पंजीकरण भी कर सकते हैं।
पोर्टल में किसान कॉर्नर के माध्यम से किसान अपने आधार डेटाबेस / कार्ड के अनुसार अपना नाम पीएम-किसान डेटाबेस में भी संपादित कर सकते हैं।
प्रत्येक किसान पीएम किसान पोर्टल के माध्यम से अपने भुगतान की स्थिति को जान सकता है

PM Kisan Pehchan Patra

 केंद्र सरकार  देश के किसानों के लिए यूनिक फार्मर आईडी (Unique farmer ID) यानी पहचान पत्र बनाने की तैयारी कर रही है ।केंद्रीय कृषि मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया है कि पीएम-किसान सम्मान निधि स्कीम (PM-Kisan Samman Nidhi Scheme) और अन्य योजनाओं के डेटा को राज्यों द्वारा बनाए जा रहे भूमि रिकॉर्ड डेटाबेस से जोड़ने की योजना है ।इस डेटाबेस के आधार पर किसानों का विशिष्‍ट किसान पहचान पत्र बनाया जायेगा । इस किसान पहचान पत्र की सहायता से किसानो के चलायी जाने वाली योजना का लाभ देश के किसान आसानी से उठा सकेंगे । भूमि रिकॉर्ड डेटाबेस का कंप्यूटरीकरण (Digitization of Land Records) होने के बाद किसी भी योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन करने वालों का वेरीफिकेशन आसान हो जाएगा।

पीएम किसान पहचान पत्र लाभार्थी

किसान पहचान पत्र के लिए सबसे पहले पीएम-किसान योजना के तहत रजिस्टर्ड करीब 10 करोड़ किसानों को  कवर किया जायेगा ।इसमें काश्तकार, कृषि श्रमिक, बटाईदार, पट्टेदार, मुर्गीपालक, पशुपालक, मछुआरे, मधुमक्खी पालक, माली, चरवाहे आते हैं। रेशम के कीड़ों का पालन करने वाले, वर्मीकल्चर तथा कृषि-वानिकी जैसे विभिन्न कृषि-संबंधी व्यवसायों से जुड़े व्यक्ति भी किसान हैं। इन्हे भी शामिल किया जायेगा ।केंद्र सरकार के पास प्रधान मंत्री किसान सम्मान निधि के तहत करीब 10 करोड़ किसान परिवारों का आधार, बैंक अकाउंट नंबर और उनके रेवेन्यू रिकॉर्ड की जानकारी एकत्र हो चुकी है. इस डेटाबेस को मिलाकर यदि पहचान पत्र बनाने की कल्पना यदि साकार होती है तो किसानों का काम काफी आसान हो जाएगा |

अब तक सरकार द्वारा दी गयी धनराशि

देश में चल रहे कोरोना वायरस के चलते किसानो को काफी नुकसान हो रहा है । इसी नुकसान के चलते केंद्र सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत लाभार्थी किसानो के बैंक अकाउंट में धनराशि ट्रांसफर की जा रही है । अब तक केंद्र सरकार द्वारा 5,125 करोड़ रूपये की रकम अप्रैल से जुलाई के दौरान 4 महीनो की क़िस्त के तोर पर ट्रांसफर की जा चुकी है । आपको बता दे की 26 मार्च को देश की वित् मंत्री निर्मला सीतारमण जी की ओर से लॉक डाउन के चलते प्रभावित देश के गरीबो की मदद के लिए 1.7 लाभ करोड़ रूपये के पैकेज का ऐलान किया ओर किसान सम्मान निधि योजना के तहत अप्रैल के पहले हफ्ते में देश के कुल 9 करोड़ लाभार्थी किसानो के बैंक अकाउंट में 2000 रूपये की धनराशि ट्रांसफर करने के ऐलान किया है ।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना 2020

इस योजना के तहत केंद्र सरकार की तरह से देश के छोटे  और सीमांत किसानो को  सालाना 6000 रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान  की जाएगी ।सरकार की तरफ से किसानो को दी जाने वाली 6000 रूपये की धनराशि तीन समान किश्तों में प्रदान  की जाएगी । 2019 के बजट में किसान सम्मान योजना के लिये 75,000 करोड़ रूपये का बजट दिया गया था। लेकिन कम संख्या में किसानों का वेरिफिकेशन हुआ इस लिए इस वर्ष बजट 2020 में  कृषि मंत्रालय ने प्रधानमंत्री किसान  सम्मान निधि योजना 2020 के तहत किसानों को पैसे देने के लिए केवल 60,000 करोड़ रूपये का ही बजट माँगा है। PM Kisan Samman Nidhi Yojana 2019 के अंतर्गत  12 करोड़  छोटे तथा सीमांत किसानो को शामिल किया जायेगा | योजना के तहत लगभग 9.5 करोड़ किसानों ने रजिस्ट्रेशन कराया है इसमें से करीब 7.5 करोड़ किसानों का आधार के जरिए सत्यापन हो चुका है।